सीकर न्यूज़, Sikar News in Hindi, Sikar Local News

सीकर: निकाय चुनावों की तैयारियों में जुटी पार्टियां, टिकिट को लेकर लम्‍बी फेहरिस्‍त

सीकर नगर परिषद की बात करें तो यहां वर्तमान में कांग्रेस का कब्‍जा है. वैसे सीकर नगर‍ परिषद में कांग्रेस का कब्‍जा रहा है और कांग्रेस इस बार कब्‍जा बरकरार रखने के लिए प्रयास कर रही है. वहीं विधानसभा में करारी हार का मूंह देख चुकी भाजपा भी जीतोड़ मेहनत में जुटी है. कांग्रेस की वैसे तो कमान स्‍थानीय विधायक राजेन्‍द्र पारीक के कंधों पर है लेकिन सीकर के लिए कांग्रेस ने चिकित्‍सा मंत्री रघुशर्मा को कमान सौंप रखी है.

रघु शर्मा कांग्रेसी कार्यकर्ताअें और पदाधिकारियों से जयपुर और सीकर में बैठके कर चुके हैं और एकजुट होकर कांग्रेस का बोर्ड बनाने का आहवान कर रहे हैं.

कांग्रेस के सामने सबसे बडी चुनौती आपसी गुटबाजी है. बड़े नेताओं की गुटबाजी को पार करना कांग्रेस के लिए चुनौती है तो पांच साल में कांग्रेस के बोर्ड के प्रति सत्‍ता विरोधी माहौल को कंट्रोल करना दूसरी बड़ी चुनौती है. तीसरी बड़ी चुनौती है टिकट के दावेदारों की जिसमें बागियों के होने के चलते कांग्रेस की लुटियां डूब सकती है. हालांकि, नेताओं के दावे हैं कि वो सभी एकुजुट होकर चुनाव मैदान में उतरेंगे. रघु शर्मा का कहना है कि विकास के मुद्दे पर कांग्रेस जनता के बीच जाएगी. वहीं कांग्रेस के लिए सबसे बड़ा प्‍लस प्वाइंट है. सीकर में मुस्लिम वार्डों की बहुलता है. दूसरा प्‍लस प्‍वाईंट है कांग्रेस की सरकार का होना है.sikar news
google.com, pub-9215029310933894, DIRECT, f08c47fec0942fa0
वहीं वर्तमान सभापति जीवण खां का कहना है कि उनके कार्यकाल में सीकर काविकास की गंगा बही है और सकीर की जनता सीकर के विकास के लिए कांग्रेस को जीताएगी. वहीं विधानसभा में खाता तक खोलने के लिए तरसने वाली भाजपा भी लोकसभा में जीत का स्वाद चख लिया. इस स्‍वाद को बरकरार रखकर वह आने वाले निकाय चुनावों मे जीत दर्ज करने के लिए लालायित है. यहां कमान वर्तमान सांसद सुमेधानंद सरस्‍वती और जिलाध्‍यक्ष विष्‍णु चेतानी पर है तो पूर्व केन्‍द्रीय मंत्री सी आर चौधरी को प्रदेश नेतत्‍व में कमान सौंपी है.

सीआर चौधारी भाजपाइयों की कई बैठके ले चुके है और टिकटार्थियों से आवेदन ले चुके है. भाजपा सीकर, नीम का थाना और खाटूश्‍यामजी में बोर्ड बनाने का दावा करती है. भाजपाइयों का कहना है कि पिछले दस महीने के कांग्रेस सरकार के फ्लॉप कार्यकाल को वो जनता के बीच लेकर जाएंगे साथ ही भाजपा सांसद और तत्‍कालीन भाजपा विधायकों और भाजपा की केन्‍द्र की सरकार की नीतियों और सीकर के विकास के मुद्दे पर जनता के बीच जाकर भजपा को जीताने की अपील करेंगे. भाजपा के साथ सबसे बड़ी चुनौती है कि मुस्लिम वार्डों में भाजपा के पास कई स्‍थानों पर दमदार उम्‍मीदवारों का टोटा है तो कई वाडों में टिकटार्थियों की लम्‍बी चौड़ी लिस्‍ट है. ऐसे में भाजपा को भी बागी होने का खतरा सता रहा है लेकिन भाजपा नेताओ का कहना है कि सब एकजुट होकर चुनाव मैदान में तरेंगे और भाजपा का तीनों स्‍थानों पर बोर्ड बनाएंगे.

जहां भाजपा कांगेस जीत के लिए जीतोड मेहनत कर रही है. वहीं कई स्‍थनों पर माकपा भी अपने उम्‍मीदवार मैदान में उतार रही है. भाजपा कांग्रेस के पास दावेदारों की फौज है तो दोनों ही दलों को बागियों का डर सता रहा है. दोनों के पास बागियों से निपटने की चुनौती है. अब देखना है कि दोनों पार्टियों के जीत के दावे पर जनता किस के दावों पर मोहर लगाती है.