सीकर न्यूज़, Sikar News in Hindi, Sikar Local News

सावधान : एड्स होने के 3 कारण है पुरष हो या महिला दोनों का जानना बहुत जरूरी

उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण या एड्स मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु [मा.प्र.अ.स.] (एच.आई.वी) संक्रमण के बाद की स्थिति है, जिसमें मानव अपने प्राकृतिक प्रतिरक्षण क्षमता खो देता है। एड्स स्वयं कोई बीमारी नही है पर एड्स से पीड़ित मानव शरीर संक्रामक बीमारियों, जो कि जीवाणु और विषाणु आदि से होती हैं, के प्रति अपनी प्राकृतिक प्रतिरोधी शक्ति खो बैठता है क्योंकि एच.आई.वी (वह वायरस जिससे कि एड्स होता है) रक्त में उपस्थित प्रतिरोधी पदार्थ लसीका-कोशो पर आक्रमण करता है। एड्स पीड़ित के शरीर में प्रतिरोधक क्षमता के क्रमशः क्षय होने से कोई भी अवसरवादी संक्रमण, यानि आम सर्दी जुकाम से ले कर क्षय रोग जैसे रोग तक सहजता से हो जाते हैं और उनका इलाज करना कठिन हो जाता हैं।

एच.आई.वी. संक्रमण को एड्स की स्थिति तक पहुंचने में ८ से १० वर्ष या इससे भी अधिक समय लग सकता है। एच.आई.वी से ग्रस्त व्यक्ति अनेक वर्षों तक बिना किसी विशेष लक्षणों के बिना रह सकते हैं

एड्स होने के यह 3 मुख्य कारण:

इंजेक्शन के कारण:

कभी भी ऐसे इंजेक्शन का इस्तेमाल अपने शरीर पर ना करें. जिससे की पहले ही किसी और के शरीर पर वह इंजेक्शन इस्तेमाल किया गया हो.कई बार यह भी देखा गया है की कई डॉक्टर पैसे बचाने के लिए ऐसा करते हैं. जो बहुत बुरी बात है. इससे कारण अगर किसी ऐसे व्यक्ति को इंजेक्शन दिया गया है. जिसे पहले से ही एड्स होता है. तो उसके वह संक्रमण आपके शरीर में भी आ जाते है. और आपको एड्स जैसी गंभीर समस्या दे सकता है

शेविंग ब्लेड के कारण:

अगर अप शेविंग करते है. तो आपको किसी भी दूसरे व्यक्ति का शेविंग ब्लेड इस्तेमाल भी कभी नहीं करना चाहिए. क्योंकि अगर वह ब्लेड किसी ऐसे व्यक्ति का है या फिर किसी ऐसे व्यक्ति पर इस्तेमाल किया गया हो जिसे एड्स हो तो उसका संक्रमण आपके शरीर पर भी हो सकता है. और आपको भी एड्स होने का खतरा हो सकता है

 

संबंध बनाने के कारण:

अगर कोई स्त्री या फिर पुरुष एक ऐसे व्यक्ति के साथ संबंध बनाता है. जिसे एड्स है तो यह पूरी संभावना होती है की उसे भी एड्स हो जाएगा इसीलिए पुरषों के लिए कंडोम का इस्तेमाल बहुत जरूरी हो जाता है.