CLAT 2021 Latest updates| Supreme Court dismisses the petition to postpone the examination, the examination will be held with Corona guidelines on July 23 | सुप्रीम कोर्ट ने परीक्षा रद्द करने की मांग वाली याचिका खारिज की, कहा- कोरोना गाइडलाइन का सख्ती से पालन करें


  • Hindi News
  • Career
  • CLAT 2021 Latest Updates| Supreme Court Dismisses The Petition To Postpone The Examination, The Examination Will Be Held With Corona Guidelines On July 23

7 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट (CLAT) 2021 को स्थगित करने वाली याचिका खारिज कर दी है। कोर्ट के फैसले बाद अब यह परीक्षा तय शेड्यूल के मुताबिक यानी 23 जुलाई को ही होगी। याचिका पर सुनवाई करते हुए मंगलवार को कोर्ट ने परीक्षा से संबंधित अधिकारियों को कई निर्देश दिए। कोर्ट ने कहा कि परीक्षा के दौरान कोरोना के सुरक्षा उपायों का सख्ती से पालन किया जाए।

कोरोना गाइडलाइंस का हो पालन
मामले की सुनवाई जस्टिस नागेश्वर राव और जस्टिस अनिरुद्ध बोस की बेंच ने की। बेंच ने याचिका में परीक्षा स्थगित करने के लिए दी गई वजह पर सवाल उठाया। याचिका में कहा गया था कि लॉकडाउन वाले क्षेत्रों में रहने वाले कैंडिडेट्स के लिए परीक्षा में शामिल होना मुश्किल होगा। इस पर कोर्ट ने कहा कि परीक्षा 23 जुलाई को होने वाली है। अब परीक्षा को स्थगित करना उचित नहीं होगा। कोर्ट ने कहा कि कोरोना गाइडलाइन का पालन किया जाना जरूरी है, लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि कैंडिडेट्स पर वैक्सीन लेने के लिए जोर दिया जाए।

कैंडिडेट्स को वैक्सीन लगवाने की दी थी सलाह
इस मसले पर नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी (NLU) के कंसोर्टियम ने 14 जून को नोटिफिकेशन जारी किया था। इसमें कहा गया था कि UG और PG दोनों में प्रवेश के लिए CLAT का आयोजन 23 जुलाई को किया जाएगा। नोटिफिकेशन में बताया गया था कि परीक्षा पेन- पेपर मोड में कोविड सुरक्षा प्रोटोकॉल के साथ होगी। साथ ही कंसोर्टियम ने कैंडिडेट्स को वैक्सीन लगवाने की भी सलाह दी थी।

सभी कैंडिडेट्स के लिए टीकाकरण संभव नहीं
कंसोर्टियम के 14 जून को जारी नोटिफिकेशन को चुनौती देते हुए एक याचिका दायर की गई थी। कंसोर्टियम के नोटिफिकेशन में कैंडिडट्स को वैक्सीन लगाने की सलाह दी गई थी, लेकिन, कैंडिडेट्स के लिए टीकाकरण कराना संभव नहीं है, क्योंकि ज्यादातर की उम्र 18 साल से कम हैं।”

ऐसे में याचिकाकर्ता ने परीक्षा आयोजित करने का एक वैकल्पिक और सुरक्षित तरीका तैयार करने की मांग की थी। ऐसा न होने पर कोरोना ​​​​की स्थिति सामान्य होने तक परीक्षा स्थगित करने को कहा गया था।

खबरें और भी हैं…



Source link

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email