ground report from amer jaipur Eight years ago the memories of the accident were fresh, two man died by thunderstorm lightning | जहां लोगों की भीड़ घूम रही थी, वहां सिर्फ लाशों का गम; वॉच टॉवर पर अब भी मौजूद खून के निशान, 8 साल पहले भी हुई 2 की मौत


  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Ground Report From Amer Jaipur Eight Years Ago The Memories Of The Accident Were Fresh, Two Man Died By Thunderstorm Lightning

जयपुर31 मिनट पहलेलेखक: विष्णु शर्मा

आमेर में रविवार को बिजली गिरने

जयपुर शहर के आमेर में रविवार देर शाम को हुई मूसलाधार बारिश में बिजली गिरने से 11 पर्यटकों की जिंदगी खत्म होने का गम बरकरार है। आमेर कस्बे में रहने वाले लोग घटना से अभी उबर नहीं पा रहे है। वहीं, हादसे की खबरें आने के बाद पर्यटकों की शुरु हुई आवाजाही फिर से कम हो गई है।

यहां हादसे के तीसरे दिन आमेर कस्बे के बाजार में सन्नाटा पसरा हुआ था। मावठे के सामने खड़ी पर्यटकों को घुमाने वाली जीप गाड़ियां पर्यटकों के इंतजार में खड़ी रही। खाने पीने की दुकानों भी सुनी नजर आई। लोगों की निगाह बार बार 2000 फिट की ऊंचाई पर मौजूद वॉच टॉवर ही टिकी हुई थी। मुख्य गेट पर भी हादसे में घायल और जान गंवा चुके लोगों के जूते बिखरे हुए नजर आए।

वर्ष 2013 में मावठे पर बनी इसी सफेद छतरी पर गिरी थी बिजली। इसमें दो लोगों की मौत हो गई थी। तीन लोग झुलस गए थे

वर्ष 2013 में मावठे पर बनी इसी सफेद छतरी पर गिरी थी बिजली। इसमें दो लोगों की मौत हो गई थी। तीन लोग झुलस गए थे

वॉच टॉवर पर लोगों के आने जाने पर पाबंदी, होमगार्ड जवान लगाए
वहीं, वॉच टॉवर पर अब और कोई हादसा नहीं हो। इसके लिए यहां आम लोगों के आने जाने पर अघोषित पाबंदी लगा दी है। वॉच टॉवर के एंट्री गेट पर होमगार्ड के दो-दो जवान निगरानी के लिए लगाए है। जो कि दो शिफ्ट में ड्यूटी देंगे। स्थानीय निवासी रवि शर्मा और मिंटू ने बताया कि आमेर में रहने वाले लोग कोरोना कॉल में मॉर्निंग और इवनिंग वॉक के लिए वॉच टॉवर पर जाने लगे थे। लेकिन हादसे के बाद 11 लोगों की दर्दनाक मौत से सिहर उठे है।

वॉच टॉवर पर लोगों का प्रवेश बंद। मुख्य गेट पर होमगार्ड जवान लगाए

वॉच टॉवर पर लोगों का प्रवेश बंद। मुख्य गेट पर होमगार्ड जवान लगाए

ऐसे में अब लोग खुद भी जाने से बच रहे है। पिछले दो दिनों से आमेर के रहने वाले लोगों में घटना की ही चर्चा है। बरसों पुराने किले व महलों से पहचान रखने वाले आमेर में इस तरह प्राकृतिक आपदा की पहली घटना है। जबकि एक साथ 11 लोग पहाड़ी पर बने वॉच टॉवर पर जिंदगी खो बैठे। इसके अलावा कई लोग झुलसने और भगदड़ में गिरने से घायल हो गए।

आठ साल पहले भी हुआ था हादसा, इकबाल ने कहा था-शैतान आ रहा है
रविवार शाम को हुए दर्दनाक हादसे ने आमेर में रहने वाले लोगों को आठ साल पहले 22 अप्रैल 2013 को मावठे पर बिजली गिरने के हादसे की याद दिला दी। यहां मावठे पर बनी छतरी पर आकाशीय बिजली गिरी थी। जिससे आमेर के रहने वाले इकबाल खान (60) और केरल से अपने दोस्तों के साथ घूमने आए पर्यटक रागेश (24) की दर्दनाक मौत हो गई थी।

दरअसल, इकबाल मावठे पर पार्किंग स्टैंड पर ही कबूतरों को चुग्गा बेचता था। उस दिन तेज बारिश होने पर वह छतरी के नीचे जाकर बैठ गया। वहीं, छतरी के पास बनी रैलिंग के पास रागेश और उसके दोस्त खड़े होकर आमेर महल देख रहे थे। तभी तेज कड़कड़ाहट के साथ बिजली गिरी।

आमेर में रविवार शाम को वॉच टॉवर पर गिरी थी बिजली। इसमें 11 लोगों की जान चली गई थी

आमेर में रविवार शाम को वॉच टॉवर पर गिरी थी बिजली। इसमें 11 लोगों की जान चली गई थी

खबरें और भी हैं…



Source link

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email