Honey Trap Case In Jaipur – हनी ट्रैपः जयपुर के उस व्यक्ति की जुबानी, जो जाल में फंसने से बाल-बाल बचा


उसने न जाने कितने लोगों को फांसा होगा। आप जब यह खबर पढ़ रहे हैं, तब भी सम्भव है कि वह किसी को अपने जाल में उलझा रही हो। चेहरा तो एक है लेकिन सोशल मीडिया पर उसकी आइडी 50 से अधिक हैं।

अविनाश बाकोलिया/ जयपुर। उसने न जाने कितने लोगों को फांसा होगा। आप जब यह खबर पढ़ रहे हैं, तब भी सम्भव है कि वह किसी को अपने जाल में उलझा रही हो। चेहरा तो एक है लेकिन सोशल मीडिया पर उसकी आइडी 50 से अधिक हैं। पहले छद्म पद और नाम से वह दोस्ती गांठती है। फिर अश्लीलता पर उतपकर वीडियो रिकॉर्ड करती है। बाद में असली रंग दिखाती और ब्लैकमेल कर पैसे ऐंठती है।

यह कहना है जयपुर निवासी उस व्यक्ति का, जिसे उक्त महिला ने फांसने का प्रयास किया। महिला की धमकियां झेल रहे उक्त व्यक्ति ने बताया, फेसबुक पर फ्रेंड बनने के बाद महिला बार-बार वीडियो कॉल करने का दबाव देने लगी तो मुझे शक हुआ। मैंने मना किया तो महिला ने धमकी भरे मैसेज भेजने शुरू कर दिए और रुपए मांगे। तब मैंने उसकी ‘कुण्डली’ खंगाली तो उसकी 50 से अधिक फर्जी आइडी सामने आई।

शिकायत तो की साइबर थाने की वेबसाइट पर, पहुंच गई गैंग के पास
उक्त व्यक्ति ने बताया, मैंने घटना की शिकायत साइबर थाने की वेबसाइट पर की तो उसके बाद ई-मेल आया कि आपके हमारे एक्सपर्ट फोन करेंगे। दो घंटे बाद एक महिला का फोन आया। उसने कई दस्तावेज ऑनलाइन लिए और आइडी मांगी। मना करने पर महिला ने कहा कि फिर तो कार्यवाही नहीं हो सकती। अगले दिन उसी नम्बर से एक व्यक्ति ने फोन कर धमकाया कि मैं साइबर थाने से बोल रहा हूं, आपका वीडियो मिला है, अपलोड करवाना है क्या? फिर ई-मेल से डीसीपी क्राइम को शिकायत भेजी। इसके बाद मामला चित्रकूट थाने को ट्रांसफर कर दिया।

कुछ जागरुक लोग कर रहे सावधान
कुछ जागरुक लोग ऐसे झांसों से लोगों को बचाने के लिए सोशल मीडिया पर अभियान चला रहे हैं। इनमें पंजाब निवासी सुखविंदर और जयपुर के चित्रकूट निवासी बंशीधर बेरवाल ने महिला की फेसबुक आइडी सोशल मीडिया पर शेयर की है और लोगों से सावधान रहने की लगातार अपील करते रहे हैं।

छलावे का यह तरीका
सोशल मीडिया पर उक्त महिला ने मेडिकल स्टूडेंट, सरकारी कर्मचारी आदि बनकर अलग-अलग नामों से दर्जनों आइडी बना रखी हैं। लोगों को पहले फेसबुक पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजती है, फिर प्रेम की बातें करने लगती है। इस दौरान खुद को न्यूड दिखाकर लोगों का वीडियो रेकॉर्ड कर लेती है। फिर वायरल करनी की धमकी देकर ब्लैकमेल करती, रुपए ऐंठती है।

एक्सपर्ट कमेंटः अनजान नम्बर से आई वीडियो कॉल रिसीव न करें
साइबर विशेषज्ञ आयुष भारद्वाज का कहना है, फेसबुक पर अनजान व्यक्तियों की फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार नहीं करनी चाहिए। अनजान नम्बरों से आई वीडियो कॉल भी रिसीव नहीं करनी चाहिए। हो सकता है, कॉल किसी ऐसी महिला की हो जो फोन उठाते ही न्यूड दिखे। वीडियो कॉल के दौरान रिसीवर का चेहरा भी मोबाइल स्क्रीन पर होगा। वह स्क्रीनशॉट लेकर ब्लैकमेल कर सकती है।

प्रकरण चित्रकूट थाने में ट्रांसफर किया गाया है। पीड़ित के बयान लेकर मामले की जांच की जाएगी।
दिगंत आनंद-डीसीपी क्राइम





Source link

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email