Lahariya Fashion Trend – सौभाग्य का प्रतीक लहरिया हर बार लगता है नया


लहरिया केवल राजस्थान की पहचान ही नहीं है, बल्कि महिलाओं के सौभाग्य का भी प्रतीक है।

सावन शुरू होने से पहले मार्केट लहरिया से सजने लगता है। राजस्थान की इस अनूठी पोशाक को टाई और डाई से तैयार किया जाता है। लहरिया केवल राजस्थान की पहचान ही नहीं है, बल्कि महिलाओं के सौभाग्य का भी प्रतीक है। हरियाली तीज से एक दिन पहले राजस्थान में सिंजारा पर्व मनाया जाता है और इस दिन नव-विवाहिताओं और शादी से पहले लड़कियों को ससुराल और पीहर पक्ष की ओर से लहरिया पहनाया जाता है। चटख रंगों की यह वेशभूषा कभी फैशन से बाहर नहीं होती है। हालांकि हर बार लहरिये को लेकर फैशन इंडस्ट्री में नया ट्रेंड आता है, लेकिन फिर भी लहरिया कभी फैशन से बाहर नहीं होता है।

लहरियां सूट या स्कर्ट
इ न दिनों सूट के साथ स्कर्ट या ब्राइड प्लाजो का ट्रेंड है। ऐसे में लहरिया की स्कर्ट और प्लाजो आपकी खूबसूरती को निभार देगा। लहरिया कभी फैशन से बाहर नहीं होता है। भले ही लहरिये को लेकर हर बार फैशन इंडस्ट्री में नया ट्रेंड आता रहे। कभी लहरिये की रंगीन पतली स्ट्रिप्स का ट्रेड नजर आता है तो कभी जिकजेक लहरिये का। लहरिये के पैटर्न के अलावा उसके साथ किए गए वर्क जैसे कुंदन, गोटा-पत्ती, लेस आदि में भी हर बार बदलाव होता रहता है। यदि आप भी लहरिया के नए आउटफिट के बारे में सोच रही हैं तो लहरिये की साड़ी से डिजाइनर ड्रेस या स्कर्ट तैयार करवा सकती है। इससे आपको नया लुक भी मिलेगा और अपने लहरिये को नई स्टाइल से भी पहन सकेंगी।

पारंपरिक है गुलाबी रंग
ल हरिया हर रंग में पसंद किया जाता है लेकिन जब भी पारंपरिक लहरिये की बात होती है तो गुलाबी रंग का लहरिया हर महिला की पहली पसंद होता है। इसमें पतली सफेद और पिंक लाइन्स क्रॉस में होती है। जब भी किसी समारोह में आप इस लहरिये को पहनेंगे, यह हमेशा आपको पारंपरिक लुक देगा। इसके अलावा मोटी रंगीन धारियों का लहरियां भी खूब फबेगा। लहरिये के साथ डॉट्स की डिजाइन भी अच्छी लगती है। इन दिनों कॉटन लहरिया साड़ी का भी ट्रेंड है। यह गर्मी में आरामदायक होने के साथ ही फैशनेबल भी होती हैं। इस लहरिये में टाई और डाई के अलावा मॉर्डन प्रिंट भी आकर्षक लगते हैं। गोटा-पत्ती वर्क के साथ पीले रंग का लहरिया भी फ्रेश लुक देगा।









Source link

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email