RPSC RAS 2018 Result: Toppers Success Story – RAS 2018 Results: किसान की 5 बेटियां, पांचों बनीं आरएएस अफसर, जानें होनहारों के संघर्ष की कहानी


आरएएस 2018 में परचम फहराने वाले होनहारों के संघर्ष की कहानी, जिनके जुनून ने पहुंचाया उन्हें मुकाम पर

जयपुर। अभाव भले ही लाख हों, ठान लिया जाए तो व्यक्ति क्या नहीं कर सकता। आरएएस 2018 में परचम फहराने वाले होनहारों ने इसी जुनून में अपने संघर्ष को मुकाम पर पहुंचाया है। यहां पेश हैं ऐसे ही होनहारों के संघर्ष की कहानियां।

हनुमानगढ़: पहले 2 बहनें, अब शेष तीन बहनें भी बनीं आरएएस

ras1.jpg

हनुमानगढ़ जिले में रावतसर तहसील क्षेत्र के भैरूसरी गांव निवासी किसान सहदेव सहारण के पांच बेटियां हैं। इनमें से 2 बेटियां रोमा और मंजू पहले ही आरएएस में चयनित हो चुकी थीं। अब शेष 3 बेटियों अंशु, सुमन व ऋतु का आरएएस परीक्षा-2018 में चयन हुआ है। इससे गांव में खुशी का माहौल है। सहारण का परिवार गुरुवार को जयपुर से गांव पहुंचेगा तो ग्रामीण स्वागत करेंगे। सहदेव आठवीं तक पढ़े हैं और उनकी पत्नी लक्ष्मी निरक्षर हैं। रोमा झुंझुनूं के सूरजगढ़ और मंजू नोहर के को-ऑपरेटिव बैंक में पदस्थ हैं। सहदेव के सीकर निवासी दामाद महेश कुमार का भी आरएएस परीक्षा 2018 में चयन हुआ है। रोमा कहती हैं, सफलता के लिए किसी कोचिंग की नहीं बल्कि मेहनत, लगन व ईमानदारी से पढ़ाई की जरूरत है।

बाड़मेर: बचपन में भेड़-बकरियां चराते, मेहनत कर बने अफसर

a7.jpg

बाड़मेर जिले के बायतु क्षेत्र के कानोड़ गांव निवासी देराजराम डूगेर के पिता भी किसान हैं। गरीब परिवार के देराजराम स्कूल में पैदल पढऩे जाते। बचपन में भेड़-बकरियां चरातते। परिवार चलाने में मदद करने के लिए हम्माली और हॉकर का काम तक किया। लेकिन हौसले के धनी देराजराम सतत मेहनत करते रहे। गांव के पास धोरों के बीच तलहटी में कच्चे मकान में रहने वाले देराजराम बीएसटीसी कर 2011 में पटवारी बने। वर्ष 2012 में तृतीय श्रेणी शिक्षक पद पर चयन हुआ लेकिन जुनून आरएएस बनने का था। वर्ष 2013 और 2016 में साक्षात्कार में विफल रहने के बावजूद संघर्ष जारी रखा और अब आरएएस-2018 में 302 वीं रैंक लाकर मुकाम पर पहुंचे।

जालोर: तीन भाई बने अफसर

ras_exam_jalore_6950739_835x547-m_1.jpg

जालोर जिले में सांचौर क्षेत्र के करावड़ी गांव निवासी अध्यापक आसुराम सारण को अपना पहला गुरु मानने वाले उनके 3 पुत्र दिनेश, अनिल व विकास अफसर बन गए हैं। अनिल का आरपीएस एवं विकास का आरटीएस में चयन 2016 की भर्ती में हुआ जबकि बड़े भाई दिनेश का चयन इस बार 322 रैंक से हुआ है।





Source link

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email