The Road To The Last Journey Is Very Difficult – अंतिम सफर की डगर है बहुत कठिन


बगुरूवा गांव के श्मशान घाट पर नहीं है टीनशेड व रास्ता

बरसात में खुले में दाह संस्कार
अदवास (उदयपुर). समीपवर्ती बगुरूवा गांव के श्मशान घाट तक पंहुचने के लिए रास्ता व टीनशेड नहीं होने से बारिश के दिनों में अंतिम संस्कार करने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। गांव के अध्यापक देवेन्द्र कुमार मीणा ने बताया कि श्मशान तक शव को लेकर जाने के लिए केवल पगडंडी है। जिस पर शव को लेकर एक साथ चार लोग नहीं चल पाते हैं। जैसे तैसे एक किलोमीटर तक थुअर व कांटेदार बाड़ को पार करते हुए श्मशान घाट तक पहुंचने के बाद खुले आसमान तले बारिश में शव को केरोसिन व शक्कर की सहायता से जलाया जा रहा है। शुकरवार को भी बारिश में ऐसा ही नजारा देखने को मिला। गांव के स्कुलफ ला में एक व्यक्ति की मौज हो गई। बारिश में उसका अंतिम संस्कार करना लोगों को भारी पड़़ा। ग्रामीणो ने बताया कि श्मशान घाट तक जाने वाले रास्ते को सुगम बनाने व टीनशेड लगवाने के लिए कई बार प्रस्ताव लिए, लेकिन सब कागाजों में ही रह गए। ग्रामीणों ने शीघ्र ही श्मशान घाट के रास्ते को बनवाने व टीनशेड लगवाने की पंचायत से मांग की है।
& पंचायत में प्रस्ताव लेकर शीघ्र ही गांव में श्मशानघाट का निर्माण व रास्ते को सुगम बनाया जाएगा।
प्रभुलाल मीणा,ग्राम विकास अधिकारी बगुरूवा

बारिश से बिगड़ी सड़क की सूरत, फिसलन से ११ घायल
गींगला. रावतपुरा गांव से बस स्टैण्ड तक बारिश के दिनों में सड़क खस्ताहाल होने से निकलना दूभर हो गया है। यहां बारिश से कीचड़ और दलदल सी स्थिति हो जाने से दुपहिया वाहन फि सल कर गिर रहे हैं। शनिवार को ११ वाहनों के फिसलने से लोग चोटिल हुए जिससे ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त हो गया। मार्ग से लोगों का बम्बोरा, सिंहाड, मायदा , कुराबड़, भीण्डर की ओर आना जाना रहता है लेकिन खस्ताहाल मार्ग से परेशान हो रहे है। सार्वजनिक निर्माण विभाग गिर्वा की सहायक अभियंता निशा कुमावत का कहना है कि इस सप्ताह में बारिश के रूकते ही समाधान करवा दिया जाएगा।









Source link

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email