The sun illuminates the world, but because it is not as luminous as the sun, no other source of light can be said to be inferior. | सूर्य जगत को आलोकित करता है, लेकिन महज़ सूर्य जितना प्रकाशवान ना होने के कारण प्रकाश का कोई भी अन्य स्रोत कमतर नहीं कहा जा सकता


  • Hindi News
  • Madhurima
  • The Sun Illuminates The World, But Because It Is Not As Luminous As The Sun, No Other Source Of Light Can Be Said To Be Inferior.

संदीप पांड (संकलन)एक दिन पहले

  • कॉपी लिंक

विदूषी सरोजिनी नायडू की एक परिचित को पढ़ने का बहुत शौक था। उनका पुस्तकालय और आराम कक्ष हमेशा दुनिया भर की किताबों से भरा रहता था। वे अपना अधिकतर समय पढ़ने में ही बिताती थीं।

एक दिन उन्होंने सरोजिनी नायडू से कहा, ‘मैं अब साठ वर्ष की हो गई हूं। पढ़ने की जो लालसा है, वह मन से जाती ही नहीं है। मगर अब लगता है कि इस उम्र में पुस्तकों को मैं अपना और अधिक समय नहीं दे पाऊंगी। सरोजिनी जी बोलीं, ‘आप अपने परिवार का सूर्य हैं। आपके ज्ञान के प्रकाश से ही घर का सारा प्रबंधन सफलतापूर्वक चलता रहता है। सूर्य न सही तो कृपया दीपक बन जाइए।’ परिचित को लगा कि सरोजिनी ने सूर्य से दीपक बनने को कह कर उन्हें उनके स्तर से नीचे गिराया है। उन्हें यह अच्छा नहीं लगा। उन्होंने सरोजिनी से नाराज़गी भरे स्वर में कहा, ‘मैं गंभीर होकर बात कर रही हूं और तुम इसे मजाक में ले रही हो। मैं तो तुमसे सही मार्गदर्शन की अपेक्षा कर रही थी।’

परिचित को ग़ुस्से में देख ने सरोजिनी फिर बोलीं ‘आप मेरी बात को ग़लत समझ गईं। कोई किशोर या युवा जब अध्ययन कर रहा होता है, तो उसका भविष्य सूर्य के समान होता है। उसमें अपार संभावनाएं छिपी होती हैं। वो सारे जगत को प्रकाशवान करने की ऊर्जा रखता है। प्रौढ़ावस्था में, जैसे कि आप कह रही हैं कि अब अधिक समय ना दे पाने की विवशता है, तो यही सूर्य, दीपक की तरह हो जाता है। दीपक में सूर्य जितना प्रकाश तो नहीं होता, फिर भी उसका उजाला अंधेरे में रोशनी दिखाकर भटकने से बचाता है। इसी तरह आप भी पढ़ने की अपनी रुचि का पूर्ण त्याग न करके, इसमें मन लगाए रखें। आप अपने ज्ञान के प्रकाश से कई अंधेरे रास्तों को रोशन कर सकती हैं।’अब परिचित को यह बात समझ में आ गई। उन्होंने सरोजिनी जी को उसके सुझाव का सही मतलब बताने के लिए धन्यवाद दिया।

खबरें और भी हैं…



Source link

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email